हम हैं आज़ाद न्यूज़ के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न० 8077253956,9759538213

Hum Hain Aazad

No.1 News Portal Of India

मिट्टी से बना कच्चा मकान भरभराकर गिर पड़ा परिजन बाल बाल बचे

 

*तीतरो देहात के गांवो मे ग्रामीणो को नही मिल पा रहा पीएमवाई का लाभ*

तीतरो (सहारनपुर) गांव ककराला में मिट्टी से निर्मित कच्चा मकान अचानक भरभराकर गिर पड़ा । परिजन बाल बाल बचे ।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गांव ककराला में पप्पू कुमार अपनी विधवा बहन मुनेश व बच्चों सहित मिट्टी से निर्मित कच्चे मकान में रह रहे थे । परिजन बाहर आंगन में सोये हुए थे। रात्रि करीब दो बजे अचानक मकान भरभराकर नीचे गिर पड़ा । पप्पू कुमार के बच्चे सोनम, रितिक, 90 वर्षीय वृद्धा दर्शना देवी मकान के बराबर में सो रहे थे जिससे सभी बाल-बाल बच गए ।

पप्पू कुमार, मुनेश का कहना है कि उनके पास कोई और मकान नहीं है जिस कारण अब खुले आसमान के नीचे सोना पड़ेगा ।

बताते चले कि कुछ दिन पहले तीतरो देहात के ही गांव पापड़ी निवासी वीर सिंह वाल्मिकी (80 वर्षीय) गरीब का मिट्टी से बना कच्चा मकान भी भरभराकर गिर गया था । वीर सिंह का परिवार चंडीगढ मे रहता है । जबकि बीमार चल रहे वीर सिंह की देखरेख उसका छोटा पुत्र काला करता है । जो मजदूरी करके जैसे तैसे अपने बीमार बाप की दवाई का खर्च उठाता है । कुछ दिन पहले बाप बेटे दोनो सोये हुए थे । तभी वीर सिंह ने काले को शौच के लिए चलने को कहा जैसे ही दोनो मिट्टी से बने कच्चे मकान से बाहर निकले तो अचानक मकान भरभराकर नीचे गिर पड़ा । जिसमे कपड़े, चारपाई व अन्य सामान दबकर खराब हो गए । जिसके बाद आसपास के लोगो ने पन्नी का छप्पर बनाकर दिया । जिसमे बाप बेटे रहकर अपना जीवन गुजार रहे है ।

*वीर सिंह अभी तक पेंशन से है महरूम*

वीर सिंह का कहना है कि मेरी उम्र 80 वर्ष की हो चुकी है। जबकि इस उम्र मे वृद्धा पेंशन हो जानी चाहिए थी लेकिन मेरी अभी तक पेंशन भी नही हुई ।

लेकिन इस ओर किसी का भी ध्यान नही है । अब देखना यह होगा कि क्या प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना व प्रधानमंत्री द्वारा संचालित अन्य योजनाओ का लाभ इनको मिल पाएगा ।

%d bloggers like this: